मुनासिब है तुम भी अपना खज़ाना छिपा लो
तुमने करते नहीं देखा फ़रियाद मुझे

Advertisements