चादर पलट कर देखा तो करवटें उड़ गईं
आज माँ के चेहरे से सलवटें उड़ गईं ।
एक चटनी वो खट्टी सी माँ के हाथों की , (और)
शाही दस्तरख़ानों की लज़्ज़तें उड़ गईं ।

Advertisements